Bird Flu: बर्ड फ्लू संकट के दौरान चिकन और अंडा खाना कितना सुरक्षित, जानें डब्‍ल्‍यूएचओ ने क्या कहा - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, 8 जनवरी 2021

Bird Flu: बर्ड फ्लू संकट के दौरान चिकन और अंडा खाना कितना सुरक्षित, जानें डब्‍ल्‍यूएचओ ने क्या कहा

भारत ने हाल ही में विभिन्न राज्यों में बर्ड फ्लू या एवियन इन्फ्लूएंजा के संकट की सूचना दी है. अब तक, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश, केरल और राजस्थान ने संकट को कंफर्म किया है. केंद्र ने एक एडवाइजरी जारी की है और स्थिति पर नजर रखने और फैलने पर रोक लगाने के लिए नेशनल कैपिटल में एक कंट्रोल रूम तैयार किया है. हालांकि, मनुष्यों में बर्ड फ़्लू के फैलने के अभी तक कोई भी मामले सामने नहीं आए हैं. बर्ड फ्लू क्या है? विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, यह एक प्रकार का इन्फ्लुएंजा वायरस (H5N1 वायरस) है जो पक्षियों में गंभीर श्वसन रोग का कारण बनता है.

बर्ड फ्लू संक्रमण किसी इंसान में तभी हो सकता है, जब कोई व्यक्ति किसी संक्रमित पक्षी या जानवर से करीबी संपर्क बनाता है. हालांकि, संक्रमण को एक व्यक्ति से दूरे व्यक्ति में फैलने के बारे में अभी तक सूचित नहीं किया गया है.


यह एक प्रश्न लाता है कि क्या इस समय के दौरान चिकन, डक, अंडे या किसी भी प्रकार के पोल्ट्री का सेवन करना सुरक्षित है? आइए जानें कि डब्ल्यूएचओ ने क्या रेकमेंड किया. 

अंडे और चिकन खाने पर WHO की सलाह:

डब्ल्यूएचओ की वेबसाइट पर एक बयान में लिखा गया है, चिकन और गेम बर्ड्स को अच्छी तरह से पका कर खाना सुरक्षित है." कहा जाता है कि वायरस गर्मी के प्रति संवेदनशील है. इसलिए कम से कम 70 डिग्री सेल्सियस (तापमान) में चिकन को पकाएं इससे चिकन के वायरस खत्म हो जाएंगे. डब्ल्यूएचओ ने चिकन और अंडे को खाने और बनाने में पूरी स्वच्छता बनाएं रखने के लिए सिफारिश की.

"H5N1 वायरस के साथ बड़ी संख्या में मानव संक्रमण खाना पकाने से पहले घर के स्लॉटर और बाद में रोगग्रस्त या मृत पक्षियों से जुड़ा हुआ है. ये प्रयास मानव संक्रमण के उच्चतम जोखिम का प्रतिनिधित्व करते हैं और बचने के लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं,डब्ल्यूएचओ के अनुसार.

पशुपालन, मत्स्य और डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह ने हाल ही में कहा कि स्थिति के बारे में चिंता करने की कोई बात नहीं है. किसी भी जटिलता से बचने के लिए खाने से पहले मीट और अंडे को पूरी तरह से पकाने की जरूरत है.

"कुछ स्थानों पर बर्ड फ्लू के कारण जंगली और प्रवासी पक्षियों की मौत की रिपोर्टें हैं. घबराने की जरूरत नहीं है. खाने से पहले पूरी तरह से मीट और अंडे पकाने की सलाह दी जाती है. राज्यों को सूचित किया गया है और उन्हें आवश्यक सहायता और सहायता प्रदान की जा रही है." 


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages