बस्ती-मामूली सुविधाओं के लिए मोहताज हैं कोरोना ड्यूटी में लगाये गए कर्मचारी - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, 3 जुलाई 2020

बस्ती-मामूली सुविधाओं के लिए मोहताज हैं कोरोना ड्यूटी में लगाये गए कर्मचारी

केoसीo श्रीवास्तव

कोरोना वायरस के दौरान उपजी समस्या ने पूरी दुनिया को हताश, निराश और परेशान कर दिया है लेकिन देश दुनिया की सरकारों द्वारा वैश्विक महामारी की इस चुनौती से निपटने के लिए नाना प्रकार के  इंतजाम भी किए जा रहे हैं  वहीं उत्तर प्रदेश की बस्ती में कोरोना ड्यूटी में लगे कर्मचारियों को मामूली सुविधाओं के लिए भी मोहताज होना पड़ रहा है।

तहकीकात समाचार ने बस्ती रेलवे स्टेशन पर आने जाने वाले यात्रियों का नाम और पता नोट करने वाले कर्मचारियों से बात किया तो पता चला कि ड्यूटी में लगाये गए कर्मचारियों के लिए पानी जैसी मूलभूत आवश्यकता की कोई व्यवस्था नही है।
टीम तहकीकात ने कोरोना ड्यूटी में लगाये गए कर्मचारियों में से प्रभारी रियाजत अली से बात किया तो उन्होंने कहा कि यहां पर लगाये गए सभी कर्मचारी चकबंदी विभाग के हैं सब लोग अपनी ड्यूटी ईमानदारी से कर रहे हैं यात्रा करके आने वाले यात्रियों का नाम -पता और अन्य जानकारी नोट कर रहे हैं लेकिन यहां पर खाने -पीने की कोई व्यवस्था न होने की वजह से हम लोगों को काफी परेशान होना पड़ता है।

अजय श्रीवास्तव ने बताया कि भीषण गर्मी में हम लोग दिन भर अपनी सेवा दे रहे हैं लेकिन हम लोगों को सुरक्षा के दृष्टि से मास्क और सैनेटाइजर के अलावा कोई और व्यवस्था प्रदान नही की गई है लेकिन उसके बाद भी समय से आकर हमलोग अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन कर रहे हैं।

लेखपाल अनिल चौधरी ने कहा कि शासन-प्रशासन के आदेशानुसार हम अपनी ड्यूटी में लगे हुए हैं लेकिन यहाँ सबसे बड़ी समस्या पानी की है उन्होंने कहा कि हम लोगों के लिए भोजन और पेय जल की व्यवस्था हो जाये इसके अलावा अन्य सुविधाओं की मांग नही है।
संतकबीरनगर जिले की तरफ से विनोद मिश्रा समेत लालसाराम ,दिनेशचन्द्र भास्कर और अमरेंद्र चौधरी ने भी कहा कि हम लोगों के लिए खाने और पीने की कोई ठोस व्यवस्था नही है जिसके कारण काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है सबकी मांग है कि खाना ,पानी और नाश्ता की व्यवस्था यहाँ करवाई जाए।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages