योगी सरकार का जंगलराज और यूपी पुलिस की नाकामी ,मकान बेंचवा कर दिला दी 30 लाख की फिरौती ,पुलिस की घेराबंदी से हुए फरार - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

सोमवार, 20 जुलाई 2020

योगी सरकार का जंगलराज और यूपी पुलिस की नाकामी ,मकान बेंचवा कर दिला दी 30 लाख की फिरौती ,पुलिस की घेराबंदी से हुए फरार

कानपुर. एसएसपी ऑफिस के बाहर पुलिस की लापरवाही और बेरुखी का नजारा देखने में आया है. एक लाचार बहन अपने अगवा भाई के लिए रो-रोकर पुलिस को कोसती रही. इस बहन के भाई का 22 दिन पहले रास्ते से अपहरण कर लिया गया था. पुलिस ने घरवालों से मकान और जेवर बिकवाकर खुद अपरहरण करने वालो को 30 लाख रुपया भी दिलवा दिया, लेकिन न भाई को बरामद कर सकी और न कोई अपराधी पकड़ में आया.
कानपुर के बर्रा 5 के रहने वाले चमन यादव का बेटा संजीत लैब टेक्नीशियन है जो 22 जून को बाइक समेत लापता हो गया था. पीड़ित परिवार ने बर्रा थाने में घटना की जानकारी दी, लेकिन पुलिस उसे नहीं तलाश पाई. तीन दिन बाद संजीत के पिता के मोबाइल पर बदमाशों ने फोन करके संजीत को छोड़ने के लिए 30 लाख की फिरौती मांगी, जिसके बाद पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी. पुलिस ने बदमाशों को पकड़ने के लिए प्लान बनाया और परिवार से कहा 30 लाख रुपये का इंतजाम कीजिए, पुलिस का प्लान था कि जब बदमाश फिरौती की रक़म लेने आएंगे तब उन्हें दबोच लिया जाएगा. इस पर पीड़ित परिवार ने बर्रा 5 में अपना मकान 20 लाख रुपए में बेचा और बेटी की शादी के लिए बनवाए जेवर बेचकर 30 लाख रुपये का इंतजाम किया.

पुलिस के सामने से फिरौती की रकम लेकर चम्पत हुए बदमाश

बदमाशों के कहे मुताबिक सोमवार को रकम दे देनी थी. बदमाशों ने गुजैनी फ्लाईओवर पर फिरौती की रकम मंगवाई थी. फ्लाईओवर के आसपास सादे कपड़ों में पुलिस तैनात हो गई थी, लेकिन शायद बदमाशों को पुलिस के प्लान की भनक लग गई थी, लिहाजा ऐन वक्त पर बदमाशों ने प्लान बदला और फिरौती की रकम का बैग फ्लाईओवर के नीचे फेंकने को कहा. बदमाशों की धमकी के चलते परिवार ने फिरौती की रकम फ्लाईओवर के नीचे फेंकी. इसके बाद पुलिस जब तक दौड़ कर उनको पकड़ती, बदमाश बैग लेकर चंपत हो गए.

एसपी साउथ का वीडियो अब वायरल

अब पीड़ित परिवार का कहना है कि उन्होंने एसपी साउथ अपर्णा गुप्ता से कहा था कि बैग में कोई चिप लगा दी जाए, जिससे बदमाशों की लोकेशन मिल सके, लेकिन उन्होंने बात नहीं मानी. सोशल मीडिया में अपर्णा गुप्ता का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रही हैं कि पुलिस टीम जब तक डेढ़ दो किलोमीटर दौड़ कर जाती उससे पहले बदमाश बैग लेकर चंपत हो गए.
दुखी बहन का कहना है कि उनके भाई का अपहरण हो गया था. पुलिस ने कुछ नहीं किया. पुलिस ने हमसे 30 लाख रुपया भी दिलवा दिया. अब मेरा पैसा भी चला गया भाई भी नहीं मिला. पुलिस ने मेरे साथ गद्दारी की है. एसपी अपर्णा से जब हमने कहा कि बैग में चिप लगवा दो तो वह हमसे गुस्सा करके कहने लगीं की जाइये इतनी छोटी-छोटी बात के लिए हमारे पास न आया करें.
एसएसपी ने कही दोषी पुलिसवालों पर कार्रवाई की बात
कानपुर पुलिस की फजीहत के बाद एसएसपी दिनेश कुमार पी ने मामले की जांच और दोषी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की बात कही है. एसएसपी दिनेश कुमार पी ने कहा कि लापरावही के दोषी पुलिसकर्मियों को बख्सा नही जाएगा.वह खुद पूरे मामलेे की मॉनिटरिंंग कर रहे हैं. जल्द ही युवक और रुपयों की वापसी सुनिश्चित की जाएगी.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages