घर मे नही था राशन माँ पका रही थी पत्थर ताकि बच्चे तसल्ली से सो जाएं कि खाना पक रहा है - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, 1 मई 2020

घर मे नही था राशन माँ पका रही थी पत्थर ताकि बच्चे तसल्ली से सो जाएं कि खाना पक रहा है

कोरोना संकट ने कीनिया में एक महिला को इतना ग़रीब बना दिया था कि उन्हें अपने बच्चों को बहलाने लिए पत्थर पकाने का नाटक करना पड़ रहा था बीबीसी हिंदी ने लिखा कि आठ बच्चों की इस माँ का नाम पेनिना बहाती कित्साओ है . पेनिना निरक्षर और विधवा हैं . वो लोगों के कपड़े धोकर अपना और अपने बच्चों का पेट पालती थीं लेकिन कोरोना संक्रमण फैलने के बाद उनका काम ठप हो गया .
 पेनिना के लिए ग़रीबी और मुश्किलें इतनी बढ़ गईं कि उन्हें अपने बच्चों को खिलाने के लिए खाना नहीं था . इसलिए उन्होंने अपने बच्चों को बहलाने के लिए पत्थर उबालना शुरू कर दिया . पेनिना ने सोचा कि उन्हें कुछ पकाते देख बच्चे खाने के इंतज़ार में सो जाएंगे . उनकी एक पड़ोसन प्रिस्का मोमानी ने इस पूरे वाक़ये का वीडियो बना लिया और मीडिया को इस बारे में बता दिया . प्रिस्का उनके बच्चों के रोने की आवाज़ सुनकर वहां ये देखने पहुंची थी कि उन्हें कोई परेशानी तो नहीं है .

 पेनिना की कहानी सुनकर लोगों ने उनके लिए पैसे इकट्ठा किए और उन्हें पूरे कीनिया से फ़ोन आने लगे . उन्होंने कीनिया के एक इंटरव्यू में बताया कि लोगों ने उन्हें मोबाइल ऐप के ज़रिए पैसे भेजे . एक पड़ोसी ने उनका बैंक अकाउंट खुलवाया जिससे उन्हें पैसे मिले . कीनिया के रेडक्रॉस ने भी उनकी काफ़ी मदद की है . पेनिना कहती हैं कि उन्हें अंदाज़ा नहीं था कि कीनिया के लोग इतने दरियादिल हैं . वो इन सबको ' एक चमत्कार ' मानती हैं . 
उन्होंने कीनिया की टुको न्यूज़ वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा , " मेरे बच्चों को पता चल गया था कि मैं पत्थर पकाने का नाटक करके उन्हें बहलाने की कोशिश कर रही हूं . लेकिन मेरे पास कोई और विकल्प नहीं था . " पेनिना कीनिया के मोम्बासा शहर में दो कमरों के मकान में रहती हैं . उनके घर में न तो बिजली आती है और न ही पानी . कीनिया में कोरोना संक्रमण के 395 मामले सामने आए हैं और 19 लोगों की मौत हो चुकी है .

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages