झांसी के पुष्पेंद्र और बंदायू के बृजपाल के परिवारजनों को मुआवजा और नौकरी के लिए सरदार सेना ने दिया ज्ञापन - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

गुरुवार, 10 अक्तूबर 2019

झांसी के पुष्पेंद्र और बंदायू के बृजपाल के परिवारजनों को मुआवजा और नौकरी के लिए सरदार सेना ने दिया ज्ञापन

झांसी में पुष्पेंद्र यादव और बदायूं में बृजपाल मौर्य की प्रशासनिक निरंकुशता के चलते हुई मौत पर सरदार सेना की बस्ती इकाई द्वारा राष्ट्रीय नेतृत्व के आह्वान पर जिला प्रशासन को ज्ञापन सौंप कर उनके परिवारों को न्याय दिलाने की मांग की है।

सरदार सेना के प्रदेश महासचिव बृजेश पटेल ने कहा कि शासन और प्रशासन की जिम्मेदारी है कि देश के नागरिकों को सुरक्षा और सहयोग मिले लेकिन सूबे भर के जिम्मेदार और पुलिस महकमा सुरक्षा और सहयोग के नाम पर जनता का शोषण कर रहे हैं जिसका परिणाम है कि पुलिस द्वारा पुष्पेंद्र यादव की गोली मार कर और कोतवाली में बृजलाल मौर्या की हत्या कर दी गई। उन्होंने कहा कि यदि पुष्पेंद्र और बृजलाल को न्याय नही मिलता है तो सरदार सेना पूरे प्रदेश में सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करेगी।

सरदार सेना के जिला अध्यक्ष प्रभाकर वर्मा ने कहा कि झांसी के घटना के 5 दिन बाद भी सरकार की तरफ से कोई न्यायसंगत फैसला नही आया है ,इसलिए सरदार सेना की जिला इकाई बस्ती द्वारा स्थानीय प्रशासन के माध्यम से हत्यारोपियों को गिरफ्तार करने और पीड़ित परिवार को 50-50 लाख मुआवजा देने के साथ  परिवार के एक-एक सदस्यों को नौकरी दिलाने के लिए राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन सौंपा गया है।

बता दें कि झांसी के पुष्पेंद्र यादव की पुलिस की गोली लगने से मौत हो गई ,इस मामले में पुष्पेन्द्र की पत्नी का कहना है कि इंस्पेक्टर ट्रक छोड़ने के लिए डेढ़ लाख रुपए रिश्वत मांग रहा था. पुष्पेन्द्र 50 हजार पहले दे चुका था. 50 हजार की रकम उसी दिन लेकर गया था. इंस्पेक्टर और पैसे मांग रहा था, बात नहीं बनी तो पुष्पेंद्र ने अपनी रकम वापस मांगी. इसी विवाद में पुष्पेन्द्र को मार डाला गया. वंही बृजलाल मौर्य की मौत बदायूं कोतवाली में हुई थी। जिसके चलते पूरे प्रदेश में प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages