विधायक कुलदीप सेंगर, ट्रक मालिक, चालक व खलासी के घर पर CBI का छापा - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

रविवार, 4 अगस्त 2019

विधायक कुलदीप सेंगर, ट्रक मालिक, चालक व खलासी के घर पर CBI का छापा

लखनऊ, सुप्रीम कोर्ट के रायबरेली में सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल उन्नाव की दुष्कर्म पीड़िता के मामले में सीबीआइ को 15 दिन में जांच पूरी करने के आदेश का बड़ा असर हो रहा है। इस केस की जांच कर रही सीबीआइ की टीम आज भी सीतापुर जेल में विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से पूछताछ करेगी। एक टीम ने ट्रक मालिक से पूछताछ की है जबकि एक टीम आज एक बार फिर लखनऊ के ट्रामा सेंटर में पीड़िता परिवार से मिलेगी।


सीबीआई की चार सदस्यीय टीम उन्नाव की रेप पीड़िता, उसके पिता की हत्या और संदिग्ध दुर्घटना मामले की जांच कर रही है। केंद्रीय जांच एजेंसी की टीम ने माखी गांव के कुछ घरों की भी तलाशी ली है और गांव के लोगों से भी पूछताछ कर रही है। सीबीआई की टीम इस मामले के मुख्य आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के गांव माखी पहुंची। सीबीआई की टीम कुलदीप सिंह सेंगर के लखनऊ, उन्नाव, बांदा और फतेहपुर के ठिकानों पर तलाशी अभियान चला रही है।

उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता की सड़क दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल होने के मामले की जांच कर रही सीबीआइ की टीम ने आज उन्नाव के माखी गांव के साथ ही थाना में लोगों से पूछताछ की। पीड़िता  के साथ ही घायल वकील के घर के आस-पास के लोगों से टीम ने लंबी पूछताछ की है। सीबीआइ को संदेह है कि रायबरेली की दुर्घटना के तार गांव से भी जुड़े हो सकते हैं।  हत्या और रेप के आरोपी आरोपित भाजपा से निष्कासित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के घर पर सीबीआई ने रविवार सुबह से डेरा डाल दिया। सीबीआई की 12 सदस्यीय टीम चार गाड़ियों से पहुंची। अधिकारियों ने माखी स्थित उनके आवास और कार्यालय में दस्तावेजों को जांचा। आवास और कार्यालय पर लगे सीसीटीवी फुटेज जांचने का काम सीबीआई के अधिकारियों ने किया। माना जा रहा है कि आवास पर आने-जाने वालों पर भी अधिकारियों की नजर है।

सीबीआइ टीम लगातार दूसरे दिन भी उन्नाव दुष्कर्म कांड की जांच के लिए जिला जेल पहुंची। टीम जांच को आगे बढ़ाने के लिए पहुंची है। टीम आरोपित विधायक कुलदीप सिंह सेंगर व जेल अधिकारियों से पूछताछ करेगी। शनिवार को भी सीबीआइ ने पांच घंटे से अधिक समय तक जिला कारागार में पड़ताल की थी। सीबीआइ की एक टीम आज लखनऊ से सीतापुर जेल गई है। कल सीतापुर जेल में उन्नाव दुष्कर्म केस के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से करीब चार घंटा पूछताछ के बाद सीबीआइ ने जेल के अधिकारियों से भी सेंगर के बारे में जानकारी ली थी। सीबीआइ टीम आज फिर मुलाकाती रजिस्टर खंगालेगी। इसके साथ ही टीम कुलदीप सेंगर से फिर सीतापुर जेल में पूछताछ कर सकती है। 

सीबीआई ने जेल प्रशासन से मुलाकातियों का विडियो फुटेज मांगा है, जिससे यह साफ हो सके कि सेंगर के जेल में आने के बाद उनसे कौन-कौन लोग मिलने आ चुके हैं। इससे पहले शनिवार को टीम ने मुलाकातियों का रजिस्टर अपने कब्जे में ले लिया था। सीबीआई का तीन सदस्यीय दल सीतापुर जिला जेल गया था, जहां करीब चार घंटों तक सेंगर से पूछताछ की गई।

सीबीआई की एक टीम रायबरेली के गुरबख्शगंज इलाके में दुर्घटनास्थल पर पहुंची। टीम ने कार को टक्कर मारने वाले ट्रक का निरीक्षण किया। इसके बाद दुर्घटना के बाद घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचे पुलिस अधिकारियों से भी सीबीआई की टीम ने बातचीत की।

बांदा में सीबीआइ ने खलासी के घर की ली तलाशी

सीबीआई के निरीक्षक संतोष कुमार तिवारी के नेतृत्व में पांच सदस्यीय टीम पैलानी निवासी आरोपित ट्रक खलासी मोहन श्रीवास के घर पहुंची।  वहां उन्होंने उसके पिता सरवन व मां रामदुलारी से जाते ही खलासी का कमरा पूछा। वहां उन्होंने बक्शे की गहनता से तलाशी ली। उसमें जेवर व आठ हजार रुपये रखे मिले। वापस परिजनों को दे दिया। नजदीक रखे झोले की तलाशी लेने पर उसमें मिली डायरियों को अपने कब्जे में ले लिया। करीब ढाई घंटे तक टीम परिजनों से पूछताछ करती रही। जिसमें खलासी के पिता ने उन्हें बताया कि 27 जुलाई को वह यहां के डंप से मौरंग लेकर हमेशा की तरह गया था।

उसका कहना था कि ट्रक मालिक से मजदूरी का पैसा मिलने के बाद वह वापस लौट आएगा। टीम के अधिकारियों की ओर से रात में खलासी का काम करने की बात पूछने पर परिजनों ने बताया कि वह 24 घंटे  काम मिलने से ट्रक में चलता रहा है। अचानक हादसा हुआ है। उनके बेटे को दुष्कर्म पीड़िता के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। सीबीआइ ने पूछताछ से संबंधित लिखा-पढ़ी के कागज की एक कार्बन कापी खलासी के परिजनों को दी है। जांच के समय पैलानी थाना प्रभारी दिनेश सिंह व अन्य पुलिस बल मौजूद रहा है।

उन्नाव दुष्कर्म पीडि़ता के कार हादसे के साजिश की जांच कर रही सीबीआइ की दो टीमों ने फतेहपुर में ट्रक मालिक व उसके भाई प्रसपा नेता नंदू पाल के घर में छापामारी कर तलाशी ली। दूसरी टीम चालक आशीष पाल के समसपुर गांव में घर की तलाशी लेकर परिजनों व पड़ोसियों से अलग-अलग जानकारी हासिल की। रविवार को करीब 11बजे  पांच सदस्यीय टीम नई तहसील के सामने स्थित पाल कालोनी में पहुंची। ट्रक मालिक देवेंद किशोर पाल को सीबीआइ ने लखनऊ कार्यालय तलब कर लिया था। इसके बाद घर में उपस्थित ट्रक मालिक के छोटे भाई अरविंद किशोर पाल व महिलाओं से टीम ने हादसे के बारे में पूछा कि आप लोगों को ट्रक दुर्घटना होने की जानकारी कैसे व कब मिली।

ट्रक मालिक के बड़े भाई प्रसपा नेता नंदू पाल से पूछा कि आप समाजवादी पार्टी में कब रहे और उन्नाव विधायक कुलदीप सिंह सेंगर से आपकी कभी मुलाकात हुई है या नहीं। प्रसपा नेता ने बताया कि वह वर्ष 2011 में सपा छोडऩे के बाद वह बसपा में शामिल तो हुए लेकिन सक्रिय राजनीति से दूर रहे। इस समय प्रसपा में जिला महासचिव की जिम्मेदारी निभा रहे हैं। कहा कि कुलदीप सिंह सेंगर से उनका दूर-दूर तक कोई मतलब नहीं है, और न ही जान-पहचान है। टीम ने इन दोनों के घर की तलाशी भी लिया। इतना ही नहीं पड़ोस के आठ से दस लोगों से अलग-अलग बातचीत कर ट्रक मालिक के परिवार के बारे में जानकारी हासिल की। 

उधर सीबीआइ की एक टीम ट्रक चालक आशीष पाल के ललौली थाना क्षेत्र के समदपुर (ओती) गांव जाकर घर की तलाशी ली। कच्चे व टूटे मकान में रह रहे परिवार की मां ने टीम को बताया कि ट्रक मालिक उनके रिश्तेदार है। हमारा बेटा चार वर्ष से उनके यहां रहकर ट्रक चलाता था। पड़ोसियों से चालक के चाल-चलन के बारे में जानकारी लेते रहे। दोनों स्थानों में टीम पहुंचने वे हड़कंप का माहौल रहा। इस दौरान टीम ने सदस्यों ने मीडिया से दूरी बनाए रखी।

सीबीआई दफ्तर पहुंचे ट्रक मालिक देवेंद्र किशोर ने कहा कि मैं बेकसूर हूं और मेरा विधायक कुलदीप सेंगर या उसके किसी परिचित से कोई वास्ता नहीं है। देवेंद्र किशोर ने कहा कि मैं पीड़िता या उसके परिवार को भी नहीं जानता हूं। ट्रक मालिक ने कहा कि यह मुझे फंसाने की साजिश है। मैं सीबीआई की जांच में पूरा सहयोग करने के लिए तैयार हूं। उन्नाव रेप पीड़िता के साथ रायबरेली में हुए सड़क हादसे के आरोपी ट्रक का मालिक देवेंद्र किशोर पाल रविवार सीबीआई के सामने पेश हुआ। उसने ट्रक के नंबर को ब्लैक करने के सवाल पर सीबीाई से कहा कि सीजर की कार्रवाई से बचने के लिए ट्रक के नंबर को ब्लैक कराया गया था।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages