27 वर्ष जेल में रहने के बाद ग्राम प्रधान का लड़का 10 मई को कैसे बन गया राष्ट्रपति - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शुक्रवार, 10 मई 2019

27 वर्ष जेल में रहने के बाद ग्राम प्रधान का लड़का 10 मई को कैसे बन गया राष्ट्रपति

विश्वपति वर्मा_

नेल्सन मंडेला का जन्म बासा नदी के किनारे ट्रांस्की के मवेंजो गाँव में 18 जुलाई, 1918 को दक्षिण अफ्रीका में हुआ था. उनकी माता का नाम नोमजामो विनी मेडीकिजाला था, वे एक मैथडिस्ट थीं. पिता का नाम गेडला हेनरी था. वे गाँव के प्रधान थे. उनके बचपन का नाम रोहिल्हाला था, जिसका अर्थ होता है पेड़ की डालियां तोड़ने वाला या उपद्रवी बच्चा. बारह वर्ष की अल्प आयु में उनके सर से पिता का साया उठ गया था.

 नेल्सन मंडेला क्रांतिकारी विचारों के व्यक्ति थे इन्ही कारणों से उनका परिवार काफी चिंतित रहता था. इसलिए उन्होंने मंडेला का विवाह कराने का निर्णय लिया परन्तु नेल्सन मंडेला निजी जीवन को दरकिनार करते हुए घर से भागकर जोहान्सबर्ग चले गये. वहाँ उन्होने सोने की खदान में चौकीदार की नौकरी की एवं वहीं अलेंक्जेंडरा नामक बस्ती में रहने लगे. इसके बाद उन्होने एक कानूनी फर्म में लिपिक की भी नौकरी की थी. दो साल बाद उन्होंने अफ्रीकानेर विटवाटरस्रांड विश्वविद्यालय में वकालत की पढ़ाई की और वहीं उनकी मुलाकात सभी नस्लों और पृष्टभूमि के लोगों से हुई. 1944 में, मंडेला अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस (ANC) में शामिल हुए और ओलिवर टैम्बो समेत साथी पार्टी के सदस्यों के साथ काम किया, ताकि युवालीग, ANCYL को स्थापित किया जा सके

जोहान्सबर्ग में वे ‘वाटर सिसलु’ और ‘वाटर एल्बरटाइन’ से मिले जिन्होंने उनके राजनीतिक जीवन पर अत्यधिक प्रभाव डाला. इन सभी साथियों के साथ मिलकर उन्होंने ‘अफ्रिकन नेशनल कांग्रेस यूथ लीग’ (ANCYL ) का गठन किया और 1947 में नेल्सन मंडेला को इस संगठन का सचिव चुना गया था.

नेल्सन मंडेला ने कानूनी लङाई को लङने के लिए 1952 में एक कानूनी फर्म की स्थापना की. जिसमें नस्लीय कानून से प्रभावित लोगों को मुफ्त या कम लागत वाली कानूनी सलाह दी जाती थी. 5 दिसंबर, 1956 को मंडेला और 155 अन्य कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार कर लिया गया और राजद्रोह के लिए मुकदमा चलाया गया था. 1961 में नेल्सन तथा 29 साथियों को निर्दोष घोषित करते हुए छोङ दिया गया.


जनवरी 1962 में, मंडेला ने इथियोपिया में अफ्रीकी राष्ट्रवादी नेताओं के सम्मेलन में भाग लेने के लिए अवैध रूप से विदेश यात्रा की, लंदन में निर्वासित ओलिवर टैम्बो का दौरा किया और अल्जीरिया में गुरिल्ला प्रशिक्षण लिया।

5 अगस्त 1962 को उन्हें मजदूरों को हड़ताल के लिये उकसाने और बिना अनुमति देश छोड़ने के आरोप में गिरफ़्तार कर लिया गया। उन पर मुकदमा चला और 12 जुलाई 1964 को उन्हें उम्रकैद की सजा सुनायी गयी। सज़ा के लिये उन्हें रॉबेन द्वीप की जेल में भेजा गया किन्तु सजा से भी उनका उत्साह कम नहीं हुआ। 

रोबेन आइलैंड (Robben Island) जेल में 27 साल की सजा में अपने पहले 18 साल इसी जेल में बिताए, जहां वह बिना बिस्तर के एक छोटे से सेल में रहते थे और उनको एक खदान में कड़ी मेहनत करने के लिए मजबूर किया जाता था. एक अश्वेत राजनीतिक कैदी के रूप में, उन्हें अन्य कैदियों की तुलना में कम राशन और कम विशेषाधिकार प्राप्त हुए.


1982 में मंडेला को Pollsmoor जेल में रखा गया था और बाद में रिहा किया गया था. 1988 में उन्हें न्यूनतम सुरक्षा सुधार सुविधा के आधार पर फिर से गिरफ्तार किया गया. अगले वर्ष, नव निर्वाचित राष्ट्रपति एफ डब्ल्यू डी क्लर्क ने ANC पर प्रतिबंध हटा दिया और एक गैर-राष्ट्रवादी दक्षिण अफ्रीका कहकर संबोधित किया और रूढ़िवादी विचारधारा को खारिज किया. 11 फरवरी, 1990 को, उन्होंने मंडेला की रिहाई का आदेश दिया था.

नेल्सन मंडेला, अब्राहम लिंकन और मार्टिन लूथर किंग के विचारों को मानने वाले, दक्षिण अफ्रिका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति थे, जिनको दुसरे गाँधी के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि ये भी गाँधी जी की तरह अहिंसा में विश्वास करते थे ।

8. दिसम्बर 1993 में नेल्सन मंडेला को नोबल शांति पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. 26 अप्रैल, 1994 को, 22 मिलियन से अधिक दक्षिण अफ़्रीकी इतिहास में देश के पहले बहुआयामी संसदीय चुनावों में वोट डाल कर भारी बहुमत से देश का नेतृत्व करने के लिए ANC का चयन किया और 10 मई को मंडेला ने दक्षिण अफ्रीका के पहले अश्वेत राष्ट्रपति के रूप में शपथ ली ।


 2009 में संयुक्त राष्ट्र ने 18 जुलाई मंडेला के जन्म दिवस पर "नेल्सन मंडेला अंतर्राष्ट्रीय दिवस" की घोषणा की, जिन्होंने दक्षिण अफ्रीका में और दुनिया भर में लोकतंत्र, स्वतंत्रता, शांति और मानवाधिकारों के लिए योगदान दिया था. 5 दिसंबर, 2013 को नेल्सन मंडेला की फेफड़ों के संक्रमण के कारण निधन हो गया.

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages