रेप,हत्या,बलात्कार के बाद आवाज उठने पर पुलिस पर ही क्यों गिरती है गाज,सीएम भी तो समाज का हिस्सा है! - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

शनिवार, 17 अक्तूबर 2020

रेप,हत्या,बलात्कार के बाद आवाज उठने पर पुलिस पर ही क्यों गिरती है गाज,सीएम भी तो समाज का हिस्सा है!

सुनिए सरकार....
MYogiAdityanath

16 दिन में उत्तर प्रदेश में 29 से ज्यादा रेप, बलात्कर उसके बाद हत्या के मामले हो चुके हैं जिसमें,2 साल की बच्चियों से लेकर 63 साल की बुजुर्ग महिला शामिल हैं।
यह आपके लिए गंभीर नही हो सकता, विधायक और सांसद के लिए गंभीर नही हो सकता ,मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के लिए गंभीर नही हो सकता लेकिन मेरे लिए यह गंभीर सवाल है।

रेप ,हत्या और बलात्कार में अक्सर पुलिस वालों को निलंबित किया जाता है लेकिन इस देश की विधायिका से सवाल है कि आखिर ऐसे मामलों में पहला दोषी पुलिसकर्मी क्यों होता है?

क्या राज्यों के मुख्यमंत्री इन सब मामलों के दोषी नही होते जो सत्ता में आने के बाद किसी ऐसी नवाचार की व्यवस्था और वकालत नही करते जिससे लोगों में कुंठा की भावना खत्म हो और लोग रेप बलात्कार से ऊपर उठकर कुछ नया सोचें?

सच तो यह है कि सत्ताधारी और सरकार के शीर्ष लोग भी इन सब मुद्दों को बनाये रखना चाहते हैं नही तो ऐसे मामलों पर नियंत्रण किसी सरकार के गठन के 20 वें दिन के बाद से हो जाये जैसे योगी सरकार के ऐंटीरोमियों पर कार्यवाही कुछ दिन तक हुई थी।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages