1.78 लाख करोड़ के घाटे में NAHI ,वेंटिलेटर पर चल रही हैं सरकारी कंपनियां ,19 बंद - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

सोमवार, 9 सितंबर 2019

1.78 लाख करोड़ के घाटे में NAHI ,वेंटिलेटर पर चल रही हैं सरकारी कंपनियां ,19 बंद

विश्वपति वर्मा_
देश भर की कई दिग्गज सरकारी संस्थाएं जबरदस्त घाटे में चल रही हैं 1.78 लाख करोड़ रुपये के घाटे के साथ भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग की स्थिति जितनी खराब है ठीक वैसे ही स्थिति बीएसएनएल और भारतीय डाक की है जो वेंटिलेटर पर चल रहा है वंही जबरदस्त तरीके से घाटे में चल रही 19 भारतीय कंपनियों को गुपचुप तरीके से बन्द कर दिया गया लेकिन यह मुद्दा कभी मीडिया के लिए डिबेट का हिस्सा नही बना।

मोदी सरकार ने जिन 19 कंपनियों को बंद किया है उसमें तुंगभद्रा स्टील प्रोडक्ट्स लिमिटेड, एच.एम.टी. वॉचेज लिमिटेड, एच.एम.टी. चिनार वॉचेज लिमिटेड, एच.एम.टी. बियरिंग्स लिमिटेड, हिंदुस्तान केबल्स लिमिटेड, एच.एम.टी. लिमिटेड की ट्रैक्टर यूनिट और इंस्ट्रूमैंटेशन लिमिटेड की कोटा यूनिट, जहाजरानी मंत्रालय के अधीन आने वाले केन्द्रीय अंतर्देशीय जल परिवहन निगम लिमिटेड , फार्मास्यूटिकल्स विभाग के इंडियन ड्रग्स और राजस्थान ड्रग्स एंड फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड के साथ पैट्रोलियम, पर्यावरण, रेल मंत्रालय के अधीन आने वाली कम्पनियां भी शामिल हैं।

 इसके अलावां आई.ओ.सी.एल.-क्रेडा बायोफ्यूल्स, के्रडा एच.पी.सी.एल. बायोफ्यूल्स, अंडेमान निकोबार दीप समूह वन और पौधरोपण विकास निगम पोर्ट ब्लेयर, भारत वैगन एंड इंजीनियरिंग कंपनी, बर्न स्टैंडर्ड कंपनी, हिंदुस्तान आर्गैनिक कैमिकल्स लि. में सभी संयंत्रों का  संचालन बंद होगा।

 नैशनल जूट मैन्युफैक्चरर्स कार्पो., बर्डस जूट एंड एक्सपोर्ट, एस.टी.सी.एल. को भी बंद करने के लिए मंजूरी सरकार की ओर से दी जा चुकी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages