ग्राम पंचायतों में शौचालयों की अधूरी कहानी - तहक़ीकात समाचार

ब्रेकिंग न्यूज़

Post Top Ad

Responsive Ads Here

सोमवार, 8 अप्रैल 2019

ग्राम पंचायतों में शौचालयों की अधूरी कहानी

विश्वपति वर्मा-
ग्राउंड रिपोर्ट।

भले ही सरकारी आंकड़ों में घर घर मे शौचालय बनने का कार्य पूरा दिखा दिया गया है लेकिन स्वच्छ भारत मिशन के तहत हर घर मे शौचालय होने का दावा पूर्ण रूप से फेल होता दिखाई दे रहा है।

गांवों में शौचालय की स्थिति क्या है यह जानने के लिए हम ग्राउंड जीरो पर पंहुचे जंहा पर दर्जनों लोगों के दरवाजे पर पंहुच कर उनके घर मे बने शौचालय का हाल जाना तो पता चला सब कुछ कागजों में ही पूरा हुआ है ।

बस्ती जिला मुख्यालय से 18 किलोमीटर दूर बस्ती डुमरियागंज मार्ग के बगल बसे गांव जगतापुर में पंहुचे जो सल्टौआ गोपालपुर विकास खण्ड का ग्राम पंचायत है यंहा पंहुचने के बाद दिखाई दिया कि इस गांव में अभी 40 फीसदी घरों में भी शौचालय का कार्य पूरा नही हुआ है वंही बहुत सारे घरों के सामने बने शौचालयों में अभी तक सीट और दरवाजे तक भी नही लग पाए हैं।

गांव में घूमते हुए हम गुलाबी देवी के घर पंहुचे जिनके घर पर शौचालय बनने का कार्य प्रगति पर है ।गुलाबी देवी से बात चीत में उन्होंने बताया कि 7 महीने से ज्यादा हो गया शौचालय का गड्ढा और और दीवाल तैयार हो गया है लेकिन सरकारी अनुदान न मिलने की वजह से शौचालय का कार्य पूरा नही हो सका।

इसी तरहं से गांव में दर्जनों लोग मिले जिनके घर के सामने गड्ढा खोदकर शौचालय बनाए जाने की बात की जा रही है लेकिन जिम्मेदार लोगों की उदासीनता की वजह से लाभार्थियों के घर शौचालय बनाये जाने का कार्य पूरा नही हो पा रहा है।

गांवों में बने शौचालय की इस तरहं की तस्वीर को देखने के बाद लगता है कि आने वाले दिनों में स्वच्छ भारत मिशन का लंबा चौड़ा अभियान महज कागजों में सिमट कर रह जायेगा क्योंकि पूर्व के योजनाओं के तहत बने हुए न जाने कितने शौचालय आज भी दरवाजे और सीट लगने के इंतजार में जर्जर हालात में पंहुच गए।

ग्राम पंचायत में शौचालय की स्थिति क्या है हम अगले अंक में 10 ग्राम पंचायत की समीक्षात्मक रिपोर्ट पेश करेंगे ।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

tahkikatsamachar

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages